E W S सर्टिफिकेट बनवाने के फायदे

E W S सर्टिफिकेट
80 / 100

E W S सर्टिफिकेट बनवायें :-

E W S सर्टिफिकेट

(E W S सर्टिफिकेट) केंद्र और राज्य सरकार ने गरीब लोगों के लिए अलग से 10℅ E.W.S. कैटेगरी में आरक्षण दिया है। जिसे E.W.S(Economically Weaker Section ) कैटेगरी कहा जाता है। यह आरक्षण हमारे समाज के आर्थिक और शैक्षणिक पिछड़ेपन को दूर करने में मददगार साबित हो सकता है। लेकिन अफसोस कि E.W.S. 10% आरक्षण को लेकर समाज में जानकारी का बहुत ज्यादा अभाव है। इसलिए E.W.S. को लेकर *जागरूकता और प्रचार करना जरूरी है और यह हम सब की जिम्मेदारी है।

पात्रता:
जो सामान्य वर्ग से हैं (जनरल कॅटेगरी से हैं) और जिनकी वार्षिक आय 8 लाख रुपये से कम है, वे इस आरक्षण के लिये पात्र हैं।

शैक्षणिक क्षेत्र में फायदा:—
सभी शिक्षण संस्थाओं में सभी कोर्सेज के लिए 10% सीट्स E.W.S. कॅटेगरी के लिए आरक्षित है और *फीस में भी सहूलियात मिलती है।
-11th , 12th
– Diploma, Graduation,
Post Graduation
-B.A. B.Sc, B.Com
, B.Ed. D.Ed.
-Medical, Pharmacy, Nursing
-Enginering, polytechnic,
-L.L.B.
—I.T.I. Etc…

शासकीय नौकरियों में फायदा:—-
गवर्नमेण्ट की हर नौकरियों में 10% नौकरियां E.W.S. कैटगरी के लिए आरक्षित हैं।
क्लास चतुर्थ से लेकर क्लास प्रथम यानि गजेटेड अफसर
( सिपाही से लेकर कलेक्टर ) तक की सभी नौकरियों में E.W.S.आरक्षण का लाभ मिल रहा है।
यह लाभ लेने के लिए आपके पास
E.W.S.सर्टिफिकेट होना जरूरी है।

महाराष्ट्र /मध्यप्रदेश/छत्तीसगढ़ /झारखण्ड/बिहार/उ0प्र0 में E.W.S. सर्टिफिकेट कैसे हासिल करें?
E.W.S.सर्टिफिकेट तहसीलदार के ऑफिस से मिलता है। आपको अपने तहसील के सेतु सुविधा केन्द्र, च्वाइस सेण्टर या ई-सेवा केंद्र से आवेदन करना पड़ेगा।

आवश्यक दस्तावेज:—
पालक/अभिभावक का वार्षिक उत्पन्न/ आय प्रमाणपत्र
– लाभार्थी का आधार कार्ड
– टी. सी. या निर्गम उतारा/जन्म प्रमाणपत्र

महाराष्ट्र में 43 I.T.I. 4300 और 15 सरकारी पाॕलिटेक्निक में 1800 जगह स्पेशल मायनाॕरिटी आरक्षित सेकंड शिफ्ट शुरू हो रही हैैं।आप अपने प्रदेश में भी मांग कर सेकेंड शिफ्ट चालू या शुरू करवा सकते हैं!
अपने समाज के बच्चों को कौशल विकास केन्द्र खोलकर टेक्नोलोजी में निपुण करें। स्वास्थ्य एवं स्वच्छता/ड्राइवर/शार्ट हैंड /सेनेटरी इंस्पेक्टर/ कुकिंग शेफ /लांड्री सुपरवाइजर/आटोमोबाइल स्पेशलिस्ट/टेलरिंग कटर/सुरक्षा गार्ड/प्लम्बर/इलेक्ट्रॉनिक टेक्नोलोजी/इलेक्ट्रिकल टेक्नोलोजी/ब्यूटीशियन/नर्सिंग स्टाफ/लैब टेक्नीशियन/जैसे कोर्स जिनकी रोजगार में हमेशा जरूरत पड़ती है, शुरू करें।
समाज की संस्था
सामाजिक सेवा संस्था /यंग संस्था /बहुउद्देशीय संस्थाओं को प्रधानमंत्री कौशल विकास केन्द्र या मुख्यमंत्री कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम में रजिस्ट्रेशन कराकर शासन की योजनाओं का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।
अपने मोहल्ले में महिला स्व-सहायता समूह की स्थापना करें। सात महिलाओं के ग्रुप को रोज़गार गारंटी योजना के अन्तर्गत जिला सहकारी बैंकों में 50000/प्रति ग्रुप लोन लेकर महिलाओं को आर्थिक सहायता दिलाकर स्वालमबी बनायें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *