भारतीय सभ्यता के रक्षक

भारतीय सभ्यता के रक्षक
80 / 100

भारतीय सभ्यता के रक्षक

 

भारतीय सभ्यता के रक्षक

भारतीय सभ्यता के रक्षक: एक बात तो है, आज अगर भारतीय सभ्यता बची है तो इसका मुख्य श्रेय समाज के उन मध्यम वर्गीय परिवारों को जाता है, जिन्होंने हर दुख, हर पराजय को सहकर अपने परिवार को संस्कारो से पाल पोष कर बड़ा किया है। अन्यथा अमीरों ने तो बहोत पहले से अपने को बड़ा दिखाने के चक्कर मे भारतीय परम्पराओ का हनन करने में कोई कसर नही छोड़ी।

लेकिन जब बात मान सम्मान की आती है तो उन्ही मध्यम परिवार के लोगो को परीक्षाओं से गुजरना पड़ता है।
कृपया आप लोग अपने आस पास उन लोगो का हमेशा साथ देना जो ईमानदारी से अपने संस्कारो की रक्षा करते हुए समाज मे जीवन यापन करते है। समाज मे वही परिवार अधर्मियों के निशाने पर आता है, जहाँ संस्कार एवम सभ्यता का पोषण होता है।

अन्य धर्म के लोगो को अमीरों से कोई खतरा नही है। क्यो की वो जानते है कि अमीरों को अपने पाले में करना उतना कठिन नही है, जितना कठिन स्वाभिमानी परिवारों को अपने पाले में करना कठिन होता है। इसीलिए ऐसे अधर्मियों का पहला टारगेट उम मध्यम वर्गीय परिवारों की बहन बेटियों पर होती है। क्यो की उन्हें पता है कि जो स्वाभिमानी परिवार होता है, उसे किसी माध्यम से नही हराया जा सकता।

सिवाय उनके परिवार पर आघात करने के । और बहोत हद तक वे सफल भी हो जाते है। क्यो की जब किसी परिवार की बहन बेटी पर कोई दुरात्मा अपनी नजर लगाता है, और वो किसी कारण वश सफल हो जाता है तो यही अमीर साहबजादे उस परिवार की इज्जत की धज्जियां उड़ाने में कोई कसर नही छोड़ते, समाज और पड़ोसी जन सब उस परिवार को हीन भावना से देखने लगे जाते है।

इसलिए प्रिय बन्धुओ, अब समय आ गया है कि हम सभी को हर तरह की गतिविधि पर नजर रखनी है और अपने तथा अपने समाज के लोगो को इन दुरात्माओं के चंगुल से बचा के रखना है। ताकि उन सभी को ये संदेश मिल जाये कि अब सनातन धर्म के लोग एक हो रहे है। बाकी आप सभी के सुझाव एवम मार्गदर्शन के लिए सदैव आभारी रहेंगे।
रचना:-
शिवा कांत पांडेय
सनातन धर्म हित चिंतक
आदर्श शिक्षा सेवा समिति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *